जेम्स पीबल्स, मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को मिला भौतिकी का नोबेल

स्टॉकहोम, एजेंसियां। भौतिकी के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय काम करने के लिए तीन वैज्ञानिकों को नोबेल पुरस्‍कार मिला है। विश्‍व के इस प्रतिष्‍ठि‍त पुरस्‍कार से सम्‍मानित होने वालों में कनाडियन-अमेरिकन वैज्ञानिक जेम्स पीबल्स , स्‍विस वैज्ञानिक मिशेल मेयर एवं डिडिएर क्वेलोज  शामिल हैं। जेम्स पीबल्स को भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान  में सैद्धांतिक खोज के लिए जबकि मिशेल मेयर व डिडिएर क्वेलोज को एक्सोप्लैनेट की खोज के लिए यह सम्मान प्रदान किया गया है। इन सभी वैज्ञानिकों को संयुक्‍त रूप से यह सम्‍मान मिला है।


नोबेल पुरस्‍कार मिलने के बाद जेम्स पीबल्स ने कहा कि जो लोग विज्ञान के क्षेत्र में आ रहे हैं, उनके लिए मेरी सलाह है कि उन्हें विज्ञान को स्‍नेह से अपनाना चाहिए। विद्यार्थियों को विज्ञान के क्षेत्र में मोहित होकर नहीं आना चाहिए। बता दें कि कल चिकित्सा के क्षेत्र में अमेरिका के विलियम जी. केलिन जूनियर व ग्रेग एल. सेमेंजा और ब्रिटेन के पीटर जे. रैटक्लिफ को नोबेल पुरस्‍कार दिए गए थे। तीनों वैज्ञानिकों ने मानव कोशिकाओं की कार्यप्रणाली को समझने की दिशा में क्रांतिकारी खोज की है। इन्होंने पता लगाया है कि शरीर की कोशिकाएं ऑक्सीजन के स्तर को कैसे महसूस करती हैं और उस पर कैसे प्रतिक्रिया देती हैं। उन्होंने उस बायोलॉजिकल मशीनरी को पहचाना है जो ऑक्सीजन का स्तर बदलने पर जीन की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करती है। व्यक्ति के स्वस्थ और जीवित रहने में यह प्रक्रिया अहम भूमिका निभाती है। नोबेल कमेटी के निल्स गोरन ने कल चिकित्‍सा जगत के विजेता वैज्ञानिकों की खोज के महत्व को समझाते हुए उदाहरण दिया। उन्होंने बताया कि कैंसर कोशिकाएं ऑक्सीजन के स्तर को लेकर प्रतिक्रिया देने की पूरी प्रक्रिया अपना लेती हैं। ऐसा होने के कारण रक्त नलिकाएं उन कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने में मदद करने लगती हैं। इसी तरह किसी की किडनी खराब हो तो उसे एनीमिया के इलाज के लिए हार्मोन देने पड़ते हैं। नई खोज से ऐसी दवाएं विकसित करने का रास्ता खुलेगा जो बीमार कोशिकाओं की ऑक्सीजन के प्रति गतिविधि को निशाना बनाकर उन्हें खत्म करेंगी।