रंगोली चंदेल ने बताई खुद पर हुए एसिड अटैक की दास्तां, बोलीं- कंगना रनौट को भी बुरी तरह पीटा गया


बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौट इंडस्ट्री की सबसे कामयाब और बेहतरीन अभिनेत्रियों में से एक हैं। कंगना और उनकी बहन रंगोली चंदेल अक्सर चर्चा में रहती हैं। रंगोली सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं और अक्सर अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में आ जाती हैं। हाल ही में रंगोली ने एक ऐसा ट्वीट किया है जिसे देखने के बाद आप हैरान रह जाएंगे और उनकी हिम्मत और बहादुरी की तारीफें करते नहीं थकेंगे। रंगोली चंदेल ने ट्वीट में अपने उपर हुए एसिड अटैक का खुलासा किया है। ट्वीट में उन्होंने एसिड अटैक के बाद उनकी क्या हालत हो गई थी और उनकी छोटी बहन कंगना रनौट को कैसे बुरी तरह पीटा गया था, इस बात का भी जिक्र किया है। रंगोली ने पहले अपनी बचपन की फोटो को शेयर किया है, जिसमें रंगोली के साथ उनकी मां और बहन कंगना नजर आ रही हैं। वहीं रंगोली ने अपनी एक और फोटो शेयर की है जिसमें वह अकेली नजर आ रही है। इस तस्वीर में रंगोली के चेहरे पर तेजाब गिरा हुआ नजर आ रहा है। वहीं रंगोली ने ट्वीट को शेयर करते हुए लिखा है, 'बहुत लोग इस बात पर दुख जताते हैं कि मैंने अपनी खूबसूरती खो दी। सही बताऊं तो जब आपके शरीर के अंग आपकी आंखों के सामने पिघलते हैं तब खूबसूरती आखिरी चीज होती है जिसके बारे में आप सोचते हैं। रंगोली ने लिखा, 5 साल में 54 सर्जरी के बाद भी डॉक्टर मेरा कान ठीक नहीं कर सके।' रंगोली ने जो तस्वीर शेयर की उसमें देखा जा सकता है कि इस हमले में उन्होंने अपना कान गंवा दिया। रंगोली ने आगे लिखा, 'इसमें मैंने अपनी एक आंख गंवा दी थी जिसका रेटिना ट्रांसप्लांट करना पड़ा था। डॉक्टरों ने मेरे पूरे शरीर से स्किन ली और मेरी एक ब्रेस्ट को ठीक किया, जो बुरी तरह खराब हो गई थी। प्रिथू (रंगोली की बेटी) को ब्रेस्ट फीडिंग करवाते हुए मुझे कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा।' आज भी गर्दन स्ट्रेच करने में परेशानी होती है। खराब हुई स्किन में कई बार इतनी बुरी तरह इचिंग होती है कि मैं सोचती हूं कि मैं मर जाती। हैरान करने वाली बात यह है कि भारत में एसिड पीड़ितों की संख्या बहुत ज्यादा है। मुजरिम कुछ ही हफ्तों में बेल पर बाहर आ जाते हैं, उसे सड़कों पर खुला घूमता देखना बहुत दर्दनाक था।
मैंने केस को फॉलो करना बंद कर दिया। इन लोगों को मौत की सजा क्यों नहीं दी जाती? खूबसूरती आखिरी चीज थी जिसके बारे में मैंने सोचा। मैं यूनिवर्सिटी टॉपर थी और अपनी जिंदगी के बेहतरीन साल मैंने ऑपरेशन थियेटर में बिताए।