विजयादशमी पर भारत को मिला पहला राफेल, राजनाथ सिंह ने शस्त्र पूजा कर लिखा 'ऊं'


नई दिल्ली। विजयदशमी के मौके पर फ्रांस ने भारत को पहले राफेल लड़ाकू विमान सौंप दिया है। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह राफेल को लेने के लिए खुद फ्रांस पहुंचे हुए हैं। फ्रांस की रक्षामंत्री ने भारत के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को पहला राफेल लड़ाकू विमान सौंपा।


विमान मिलेने के बाद राजनाथ सिंह ने शस्त्र पूजा की और उसके बाद फ्रांस की कंपनी दसौ से खरीदे गए लड़ाकू विमान राफेल पर 'ओम' लिखा। दसौ के साथ हुए सौदे की पहली खेप के तहत भारत 4 राफेल विमान हासिल करेगा।


इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत में आज दशहरा का त्योहार है जिसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है। इसमें बुराई पर जीत का जश्न मनाते हैं। इसके साथ ही आज 87वां वायु सेना दिवस भी है, इसलिए यह दिन कई मायनों में खास बन गया है।


बता दें कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह तीन दिवसीय दौरे पर पेरिस गए हैं। उनकी फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रों के बीच पैरिस में एक बैठक हुई। दोनों के बीच बैठक 35 मिनट तक चली। इस दौरान फ्रांस के रक्षा मंत्री भी मौजूद रहे। इस बैठक में भारत की ओर से आठ लोग शामिल हुए। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, पेरिस में एक फ्रांसीसी सैन्य विमान में सवार होकर राफेल लड़ाकू विमान को हासिल करने के लिए पेरिस से मेरिनयाक पहुंचे। फ्रांस की राजधानी पेरिस पहुंचने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा कि फ्रांस पहुंचकर मैं खुश हूं। यह देश भारत का अहम साझेदार है। उन्होंने ने लिखा फ्रांस के साथ हमारा यह खास रिश्ता औपचारिक संबंधों से भी ज्यादा गहरा और लंबा है। फ्रांस की मेरी यात्रा का उद्देश्य दोनों देशों के बीच के सामरिक साझेदारी का विस्तार करना है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को राफेल सौंपने का कार्यक्रम पेरिस से करीब 590 किलोमीटर दूर विमान की निर्माता कंपनी दसौ एविएशन के संयंत्र में है। हालांकि 36 विमानों में से पहला विमान रक्षा मंत्री को मंगलवार को ही मिल जाएगा लेकिन चार विमानों की पहली खेप अगले वर्ष मई में भारत पहुंचेगी। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता भारत भूषण बाबू ने बताया कि रक्षा मंत्री मेरीगनैक में फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ले के साथ राफेल सौंपने के कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। इसके बाद राजनाथ सालाना रक्षा वार्ता में हिस्सा लेंगे। इसमें रक्षा और सुरक्षा संबंधों को और मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की जाएगी।