योगी बोले- सबको बराबर हक देकर मोदी रामराज्य लाए; अयोध्या में 5.51 लाख दीये जलाकर गिनीज रिकॉर्ड की तैयारी

अयोध्या. भगवान राम की नगरी अयोध्या में पिछले चार दिन से दीपोत्सव मनाया जा रहा है। श्रीराम के वनवास से लौटने की खुशी में प्रतीक के तौर पर शहर में शनिवार शाम को 14 जगहों पर 5.51 लाख दीप जलाए जाएंगे। राम की पैड़ी पर 4 लाख दीप प्रज्ज्वलित कर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की तैयारी है। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसके लिए अयोध्या पहुंचे और राम-सीता की आरती उतारी। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने जाति-धर्म न देखकर सभी को बराबर हक दिया और रामराज्य स्थापित किया।


योगी ने कहा, ''प्रधानमंत्री मोदी ने देश की संस्कृति को पूरी दुनिया में फैलाने का काम किया है। सभी को दीपावली की शुभकामनाएं देता हूं। राम की परंपरा पर हमें गौरव की अनुभूति होती है। अयोध्या की जब भी बात होती है, तो रामराज्य पहले हमारे दिमाग में आता है। जहां दुख के लिए कोई जगह न हो। ऐसा राम ऐसा राज्य ही रामराज्य कहलाता है। मोदीजी ने ऐसा ही रामराज्य स्थापित किया है। यह आधुनिक रामराज्य का उदाहरण है कि जाति और धर्म न देखकर सभी को बराबर हक दिया जा रहा है। किसी भेदभाव के बगैर कल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं।''


'पहले की सरकारें अयोध्या के नाम से डरती थीं'
योगी ने कहा, ''पहले की सरकारें अयोध्या नाम से डरती थीं, आना भी नहीं चाहती थीं, लेकिन मैं अब तक डेढ़ दर्जन बार अयोध्या आ चुका हूं। मैं हर बार अयोध्या के लिए सैकड़ों करोड़ की योजनाएं लेकर आता हूं। आज भी हम 226 करोड़ की योजनाएं अयोध्या के लिए लाए हैं। अयोध्या को उसकी पहचान दिलानी है। दुनिया के हर सनातन धर्म मानने वाले के लिए अयोध्या की पहचान वैसे ही जैसे दूसरे धर्मों के लोगों के लिए उनके पवित्र स्थान की है।''


फिजी की डिप्टी स्पीकर ने शोभायात्रा रवाना की


दीपोत्सव के तहत अयोध्या में राम के जीवन वृतांत को दर्शाती 11 झाकियों की शोभायात्रा निकाली गईं। फिजी की डिप्टी स्पीकर वीना कुमार भटनागर ने शोभायात्रा को हरी झंडी दिखाई। शोभायात्रा में सांस्कृतिक कलाकारों ने हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि वीणा भटनागर ने मुख्य अतिथि के रूप में दीपोत्सव की छटा को बढ़ाया है।


5 देशों के कलाकार रामलीला करेंगे
दीपोत्सव में भारत, नेपाल, श्रीलंका, इंडोनेशिया और फिलीपींस के कलाकार रामलीला का मंचन करेंगे। इसके साथ 22 सांस्कृतिक रथों को भी तैयार किया गया है। दीपोत्सव के प्रभारी आशीष मिश्र के मुताबिक, कार्यक्रम की तैयारी हो चुकी है। अयोध्या के 13 बड़े मंदिरों में तीन दिन (24 से 26 अक्टूबर) लगातार 5001 दीये जलाए जाएंगे।